चलो शुरू करें...




चलो शुरू करे....



हममे मे से ज़्यादातर लोग जीवन मे कुछ बड़ा करना चाहते है।

वो इसके लिए पर्याप्त सोचते है, खूब प्लानिंग करते है लेकिन आखिर ऐसी क्या बात हो जाती है की सफल नही हो पाते?

क्या अपने कभी इसपर विचार किया?

सोचिए कहाँ गलती हो जाती है?  

अच्छा इसी बात को दूसरे तरीके से कहता हूँ...

सफल होने के लिए प्लान का सबसे जरूरी हिस्सा क्या है?

इसे शुरू से डिस्कस करते है...

सबसे पहले तो एक आप एक विचार लेते है की क्या करना है?”  बहुत महत्वपूर्ण सवाल है ये की क्या करना है? वो जो आपका सपना है या वो जो आपके सामने है?

क्या करना है यह निश्चित करने के बाद दूसरी बात आती है “क्यो करना है?”  यदि आपके पास किसी काम को करने का सही कारण नही है तो बहुत समय तक आप उसे नही कर पाएंगे, ऊब जाएंगे... अब इतना तो आप भी जानते है की जिस काम को करने मे आपका मन ही नही लगेगा उसमे सफल होने की कल्पना भी व्यर्थ है।

क्या” और क्यों” का निर्णय करने के बाद बात आती है “कैसे करना है?”  इस प्रश्न के उत्तर मे आप अपने काम से संबन्धित रिसर्च करते है....  सफलता की संभावना.......  सफलता मे लगने वाला समय........ राह मे आने वाली संभावित मुश्किलें....... आपकी रणनीति.....आदि ।

तो चलिये मान लेते है कि—

-आपने निर्णय ले लिया है कुछ करना है।

-आपके पास उस काम को करने का पर्याप्त कारण भी है।

-कैसे कि रिसर्च बताती है आप के सफल होने कि पूरी संभावना है।

अब..............................इसके बाद का अगला कदम क्या..................

इसी जगह 90% लोगों कि गाड़ी अटक जाती है। सारा प्लान प्लान ही रह जाता है। नतीजा जिंदगी तो नही रुकी, उसने पूरा साथ दिया लेकिन आप वही के वही है जहां से आपने प्लानिंग शुरू कि थी..........

तो गलती कहाँ हुई...???

गलती है “शुरुआत न करना”

यदि आपने निर्णय ले लिया तो फिर इंतजार किस बात का?

 क्यों फिर रुक कर सोचने लगे ?

दुनिया का कोई भी काम बिना शुरू किए पूरा हो सकता है?

आपकी कोई भी यात्रा बिना पहला कदम बढ़ाए पूरी होती है?

दोस्त यही है वो गलती जिसकी वजह से ज़्यादातर लोग जीवन मे असफल रह जाते है।

बस इसी गलती से बचिए। जितना सोचना विचारना है पहले कर लीजिये, जब एक बार फ़ाइनल कर लिया तो बस चल पड़िए...

और जब चल पड़िए तो एक बात याद रखिए.....

जब नाव जल मे छोड़ दी, तूफान मे ही मोड़ दी
दे दी चुनौती सिंधु को, फिर धार क्या मझदार क्या.......

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बाज़ और आपकी उडान